पार्किंसंस रोग: रोगियों में मानसिक विकारों को कम करने में योग मदद कर सकता है

पार्किंसंस रोग एक पुरानी न्यूरोडीजेनेरेटिव बीमारी है जिसमें विशेषतः मोटर लक्षण होते हैं जैसे कि कठोरता, धीमी गति से चलना , झटके और चलने में अस्थिरता। हालांकि, पार्किंसंस के रोगी संज्ञानात्मक समस्याओं और मनोरोग संबंधी विकारों जैसे चिंता और अवसाद से भी पीड़ित हो सकते हैं।

एक अध्ययन से पता चलता है कि पार्किन्सन वाले लोग, योग को ध्यान और श्वास अभ्यास पर केंद्रित करके चिंता और अवसाद को कम कर सकते हैं। अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने पार्किंसंस से पीड़ित 138 वयस्कों को शामिल किया और उन्हें आठ सप्ताह के लिए गतिशीलता और स्थिरता में सुधार के लिए स्ट्रेचिंग और प्रतिरोध प्रशिक्षण पर केंद्रित माइंडफुलनेस योग कार्यक्रम या कसरत कार्यक्रम में भाग लेने के लिए प्रेरित किया । सभी प्रतिभागी बिना वॉकर या कैन के खड़े और चल सकते थे।




अध्ययन से पता चला कि जबकि योग मोटर-शिथिलता और गतिशीलता में सुधार के लिए प्रतिरोध-प्रशिक्षण और स्ट्रेचिंग के रूप में प्रभावी था, वहीं जिन लोगों ने योग किया, उनमें अवसाद, चिंता और उनकी बीमारी से संबंधित प्रतिकूलता में अधिक कमी देखी गई। योग कार्यक्रम में भाग लेने वाले मरीजों ने स्वास्थ्य की बेहतर गुणवत्ता वाले जीवन की रिपोर्ट की।

अध्ययन के प्रमुख लेखक, हांगकांग विश्वविद्यालय के जोजो क्वोक ने कहा, “अध्ययन से पहले, हम जानते थे कि योग और स्ट्रेचिंग जैसे मन-शरीर व्यायाम पार्किंसंस रोग के रोगियों के शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार करते हैं; हालाँकि, उनके मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभ ज्ञात नहीं था। क्वोक ने आगे कहा,“ इस अध्ययन का निष्कर्ष है कि माइंडफुलनेस योग मनोवैज्ञानिक संकट को कम करता है, आध्यात्मिक कल्याण और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करता है, ना कि सिर्फ़ मोटर लक्षण और गतिशीलता में । जो रोमांचक है वह यह है कि योग अब सिर्फ स्ट्रेचिंग करने से बेहतर रणनीति साबित हुई है। ”

अध्ययन के दौरान, जबकि स्ट्रेचिंग एंड रेजिस्टेंस ट्रेनिंग प्रोग्राम में लोगों का एक साप्ताहिक 60 मिनट का समूह सत्र था और उन्हें सप्ताह में दो बार 20 मिनट के लिए घर पर अभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित किया गया था, योग कार्यक्रम में लोगों ने एक सप्ताह का 90 मिनट का सत्र किया था। योग, विशिष्ट पोज़ के साथ-साथ सांस लेने और ध्यान लगाने पर केंद्रित है। उन्हें भी सप्ताह में दो बार 20 मिनट के लिए घर पर अभ्यास करने के लिए कहा गया था।

माइंडफुलनेस-आधारित प्रशिक्षण कार्यक्रम एक व्यक्ति को वर्तमान पर ध्यान केंद्रित करने और किसी भी असहजता या दर्द को स्वीकार करने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं जो वह महसूस कर रहा है। इसमें खाने या चलने जैसी दैनिक गतिविधियों को करते हुए वर्तमान की चेतना को विकसित करने के लिए ध्यान की तकनीकें शामिल हो सकती हैं; या साँस लेने के व्यायाम और योग अभ्यास शरीर की चेतना को प्रोत्साहित करने और वर्तमान पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करते हैं।

अध्ययन के योग कार्यक्रम में, चार प्रतिभागियों ने अस्थायी हल्के घुटने के दर्द की सूचना दी, जैसा कि स्ट्रेचिंग और प्रतिरोध प्रशिक्षण कार्यक्रम में दो अन्य लोगों ने किया था। किसी को भी अधिक गंभीर दुष्प्रभाव होने की सूचना नहीं है।

अध्ययन की एक सीमा यह है कि कई प्रतिभागी बाहर हो गए। और, यह भी संभव हो सकता है कि अधिक गतिशीलता सीमाओं वाले पार्किंसंस रोगियों के लिए परिणाम भिन्न हो सकते हैं, जिन्हें परीक्षण से बाहर रखा गया था।
मिनियापोलिस के हेन्नेपिन हेल्थकेयर के एक एकीकृत भौतिक चिकित्सक ,कैथरीन जस्टिस, ने कहा, “फिर भी, परिणाम इस बात के प्रमाण में जोड़ते हैं कि हत्था और योग के अन्य रूप पार्किंसंस रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।”
जस्टिस ने आगे कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि इस स्थिति वाले व्यक्ति चोट-जोखिम को कम करने के लिए योग अभ्यास शुरू करने से पहले अपने योग प्रशिक्षक के साथ इस पर चर्चा करें। चूंकि पार्किंसंस रोगियों के लिए फर्श पर खड़े होने या योग क्रियाएं करने पर गिरने की संभावना अधिक होती है, इसलिए वह सलाह देते हैं कि पार्किंसंस रोगी दीवार के बगल में अभ्यास करें और पास में कुर्सी रखें जिसके कम से कम दो पाए योग चटाई पर हों।

मिनियापोलिस में पार्क निकोलेट-स्ट्रूथर्स पार्किन्सन सेंटर के चिकित्सा निदेशक डॉ मार्था नेंस के अनुसार, “पार्किंसंस के रोगी अभी भी योग अभ्यास की शारीरिक और मानसिक गतिविधि दोनों से लाभान्वित हो सकते हैं।अगर आपके घर के पास योग की सुविधा नहीं है , “यह तब भी 150 मिनट साप्ताहिक व्यायाम करने के लिए उपयोगी है; मनन / ध्यान के अन्य रूपों से भावनात्मक (स्वास्थ्य) में भी मदद मिलने की संभावना है”, नेंस, जो अध्ययन में शामिल नहीं थे, ने कहा।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x